Home / Covid-19 / कोरोनावायरस : प्रकृति और पारिवारिक मूल्यों की पुनः खोज

कोरोनावायरस : प्रकृति और पारिवारिक मूल्यों की पुनः खोज

आभा, छात्रा (बी.ए.एम.एस.), मदरहुड आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज, रूड़की, उत्तराखण्ड

जैव दर्शन की परिकल्पना के अनुसार मानव एवं जीवित जीवों के बीच एक सहज संबंध है जिसमें भावनात्मक, संज्ञानात्मक, सौंदर्य और आध्यात्मिक तत्व विद्यमान हैं। वास्तव में, संचित साक्ष्य बताते हैं कि प्रकृति के विभिन्न रूपों तक पहुंच और संपर्क, मानव स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। इसी सकारात्मक प्रभाव डालने वाले प्राकृतिक वातावरण में अन्य जीवों सहित मानवीय परिवार भी रहते हैं जिनके जीवन में वर्ष-दर-वर्ष सरंनात्मक रूप बदलते रहे हैं।

कोरोनावायरस-प्रकृति-और-पारिवारिक-मूल्यों-की-पुनः-खोज

+150-0150 ratings

About admin

Check Also

थिलेरियोसिस : रोमंथी पशुओं में एक घातक संक्रमण

के.एल. दहिया1, संदीप गुलिया1 एवं प्रदीप कुमार2 1पशु चिकित्सक, पशुपालन एवं डेयरी विभाग, कुरूक्षेत्र, हरियाणा। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *